Galib shayari – Mirza Galib shayari -50+Galib ki shayari

Aaj main aap sabke liye duniye ke sabse masur Shero shayari ka badsha Mirza Galib ki shayari laya hoon . Shayari ke duniya mai un jaise masur aur sandar shayar sayad he is duniya mai phirse paida hoga . Unke urdu shayari ka kuch alag he baat tha par yaro dard to unke dil mai bhi tha .

agar aap sabhi Mirza Galib saab ke bare main sab kuch jana chahta hai toh jarur jaan sakte hai yaha parke 👉 – Mirza Galib  Wiki

ye chand dino ke duniya hai galib
yaha palko par bithaya jata hai
najro se girane ke liye

ये चाँद दीनो के दुनिया है ग़ालिब
यहा पॅल्को पर बिताया जाता है
नज़रो से गिरने के लिए

 

Galib ne ye keh kar
todh de mala ki
gin kar naam kyu lu uska
jo behisab deta hai

ग़ालिब ने ये कह कर
तोध दी माला की
गिन कर नाम क्यू लू उसका
जो बेहिसाब देता है

 


hera hoon tujhe masjid mai dekh kar galib
aesa bhi kya huwa jo khuda yaad aa gya

हेरा हूँ तुझे मस्जिद मई देख कर ग़ालिब
एसा भी क्या हुवा जो खुदा याद आ गया

 


muskan banaye rakho
to sab sath hai galib
warna ansoon ko to
ankhon mai bhi panah nhi milti

मुस्कान बनाए रखो
तो सब साथ है ग़ालिब
वरना आनसून को तो
आँखों मई भी पनाह न्ही मिलती

 


in hato ke lakiro par
mat jawo galib
naseeb unke bhi hote hai
jinke hath nhi hote

इन हाटो की लकीरो पर
मत जाओ ग़ालिब
नसीब उनके भी होते है
जिनके हाथ न्ही होते

 

 

unko dekhne se jo aati hai
muh pe ronak
wo samjhti hai ki
bimar ka haal acha hai

उनको देखने से जो आती है
मूह पे रोनक
वो समझती है की
बीमार का हाल अछा है

Aap sab ye bhi par sate hai is post ke sath

gunah karke kaha jaoge Galib
ye jamin ye asman sab usi ka hai

गुनाह करके कहा जाओगे ग़ालिब
ये ज़मीन ये आसमान सब उसी का है

 

 

kitna khuaf hota hai
raat ke andhero main
jake pucho un parindo se
jiske ghar nhi hote

कितना ख़ौफ़ होता है
रात के अंधेरो मैं
जाके पूछो उन परिंदो से
जिसके घर न्ही होते

 

toda kuch is ada se taluk usne Galib
ki sari umra ham apna kasur dhunte rahe

तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक उसने ग़ालिब
की सारी उमरा हम अपना कसूर धुंते रहे

 

 

aata hai kaun kaun
tera gam ko batne Galib
tu apni maut ki aphawa
jar uda ke toh dekho

आता है कौन कौन
तेरा गम को बाटने ग़ालिब
तू अपनी मौत की अफवा
जर उड़ा के तो देखो

 

ae bure waqt jara adabt se paish aa
kyu ke waqt nhi lagta waqt badalne main

आए बुरे वक़्त ज़रा अदब्त से पेश आ
क्यू के वक़्त न्ही लगता वक़्त बदलने मैं

 


rehne de mujhe in andhero main Galib
kambakt roshni mai apno ke
asli chehre samne aa jate hai

रहने दे मुझे इन अंधेरो मैं ग़ालिब
कंबक्ट रोशनी मई अपनो की
असली चेहरे सामने आ जाते है

 

 

chod do ab usse
wafa ke umeed galib
jo rula sakta hai
wo bhula bhi sakta hai

छोड़ दो अब उससे
वफ़ा के उमीद ग़ालिब
जो रुला सकता है
वो भुला भी सकता है

 

umra bhar Galib
yahi galti karte rahe
dhul chehre pe thi
ham aaina saaf karte rahe

उमरा भर ग़ालिब
यही ग़लती करते रहे
धूल चेहरे पे थी
हम आईना सॉफ करते रहे

Galib ki shayari in hindi

hamne mohabaat ke nashe main
unko khuda bana dala
hosh to tab aya jab usne kaha
khuda kisi ek ka nhi hota

हमने मोहबात के नशे मैं
उनको खुदा बना डाला
होश तो तब आया जब उसने कहा
खुदा किसी एक का न्ही होता

 

 

raftar jinagi ke kuch yu banaye rakh
ke dushman bhale hi aage nikal jaye
par dost koi piche na chutte

रफ़्तार जिनगी के कुछ यू बनाए रख
के दुश्मन भले ही आगे निकल जाए
पर दोस्त कोई पीछे ना छूटते

 


is kadar toda hai mujhe
uski bewafai ne Galib
ab pyar se bhi koi dekhe to
bikhar jata hoon

इस कदर तोड़ा है मुझे
उसकी बेवफ़ाई ने ग़ालिब
अब प्यार से भी कोई देखे तो
बिखर जाता हूँ


jindagi usi ke hai
jiske maut pe jama afsos kare
you to galib har shaks
duniya main aata hai
marne ke liye

जिंदगी उसी के है
जिसके मौत पे जमा अफ़सोस करे
यू तो ग़ालिब हर शाकस
दुनिया मैं आता है
मरने के लिए

 

dard ho dil main to dawa kijiye
dil he jab dard ho toh kya kijiye

दर्द हो दिल मैं तो डॉवा कीजिए
दिल हे जब दर्द हो तो क्या कीजिए

 

Hum jo sabka dil rkhte hai
Suno hum bhi ek dil rkhte hai

हम जो सबका दिल रक्ते है
सुनो हम भी एक दिल रक्ते है


Log kehte hai dard hai mere dil me
Aur hum thak gaye muskurate-muskurate

लोग कहते है दर्द है मेरे दिल मे
और हम थक गये मुस्कुराते-मुस्कुराते


Hum to fana ho gaye uski aankhe dekhkar ghalib
Naa jane wo aaina kaise dekhte honge

हम तो फ़ना हो गये उसकी आँखे देखकर गालिब
ना जाने वो आईना कैसे देखते होंगे


Khud ko manwane ka mujhko bhi hunar aata hai
Main woh katra hu samundar mere ghar aata hai

खुद को मनवाने का मुझको भी हूनर आता है
मैं वह कटरा हू समुन्दर मेरे घर आता है

 

Khairat me mili khushi
mujhe acchi nahi lagti ghalib
Main apne dukho me
rehta hu nawabo ki tarah

खैरत मे मिली खुशी
मुझे अच्छी नही लगती गालिब
मैं अपने दुखो मे
रहता हू नॅवॉबो की तरह

Lafzo ki tarteeb mujhe
bandhni nahi aati Ghalib
Hum tumko yaad krte hai
seedhi si baat hai

लफ़ज़ो की टरतीब मुझे
बंधनी नही आती गालिब
हम तुमको याद करते है
सीधी सी बात है


Kuch to tanhai ki raato me sahara hota
Tum naa hote na sahi,zikra tumhara hota

कुछ तो तन्हाई की रातो मे सहारा होता
तुम ना होते ना सही,ज़िकरा तुम्हारा होता


Hum na badlenge waqt ki raftaar ke sath
Jab bhi milenge andaz purana hoga

हम ना बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ
जब भी मिलेंगे अंदाज़ पुराना होगा


Bewajah nahi rota
ishq me koi ghalib
Jisse khud se badh kar chaho
wo rulaata zaroor hai

बेवजह नही रोता
इश्क़ मे कोई गालिब
जिससे खुद से बढ़ कर चाहो
वो रुलाता ज़रूर है


Dard jab dil me ho to dawa kijiye
Dil hi jab dard ho to kya kijiye

दर्द जब दिल मे हो तो दावा कीजिये
दिल ही जब दर्द हो तो क्या किजिये


Main nadan tha jo wafa ko
talash krta raha ghlaib
Yeh naa socha ki
Ek din apni saans bhi bewafa ho jayegi

मैं नादान था जो वफ़ा को
तलाश करता रहा गालिब
यह ना सोचा की
एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जायेगी

 

Tu mila hai to ye ehsaas hua hai mujhko
Ye meri umra mohabbat ke liye thodi hai

तू मिला है तो ये एहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उमरा मोहब्बत के लिए थोड़ी है


Hamare sehar me garmi ka
yah aalam hai ghalib
Kapde dhote hi sookh jate hai
Pehente hi bheeg jata hai

हमारे सहर मे गर्मी का
यह आलम है गालिब
कपड़े ढोते ही सूख जाते है
पहेनटे ही भीग जाता है

 

 

Conclusion

Mirza Galib ji  Koi aam insan nhi the , wo ek misaal the shayari ke duniya main .  jiske ,har sabd pe kuch gehra arth tha duniya ke is riwaj pe , main toh  Galib ki shayari parke khud chauk gya itna acha koi kaise likh sakta hai .nad haa aap sabko ye shayari harur pasand aaya hoga.

so take care and bye

2 thoughts on “Galib shayari – Mirza Galib shayari -50+Galib ki shayari”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *