Top 71+ Gulzar ki shayari – Gulzar shayari in hindi

aaj ke is duniya main Gulzar saab ko kaun nhi janta , unke jaisa mahan insan bohot kaam hote hai is duniya main. Gulzar ji bharat ke ek bohot bare  film director , poet ,author  and screen writer hai , unhone kayi sare gane bhi likhe hai bollywood ke. toh aaj ka post hai mera , usme Gulzar saab ke kuch sabse best poetry aur shayari ke collection  laya hoon aap asbke liye . and mujhe pata hai aap sabko ye jo collection hai  Gulzar shayari in hindi jarur pasand aiga . To agar aap Gulzar saab ke bare main sab kuch janna chahte hai, to aap unka Biography par sakte hai . Gulzar saab Biography

 

woh kisi din mujhe chod he dega
ye soch kar bhi maine
usse kabhi nhi choda – gulzar poetry

वो किसी दिन मुझे छोड़ ही देगा
ये सोच कर भी मैने
उससे कभी न्ही छोड़ा – gulzar poetry

 


ek ghutan se hoti hai
is dil ke andar
jab koi dil main to rehta hai
magar sath nhi

एक घुटन सी होती है
इस दिल के अंदर
जब कोई दिल मैं तो रहता है
मगर साथ न्ही

 

 

dil tutne par bhi jo
sikayat nhi karta
us shaks ki mohabat main
kamiya mat nikalna

दिल टूटने पर भी जो
सीकायत न्ही करता
उस शक्स की मोहबत मैं
कमिया मत निकालना

 

 

ishq adhura reh jaye
to khud par naaz karna
kyu ke sachi mohabaat
kabhi mukamaal nhi hoti

इश्क़ अधूरा रह जाए
तो खुद पर नाज़ करना
क्यू के सचि मोहबात
कभी मुकामल न्ही होती

 

 


agar koi apna ho
toh aaine jaisa ho
jo hasse bhi sath
aur roye bhi sath

अगर कोई अपना हो
तो आईने जैसा हो
जो हस्से भी साथ
और रोए भी साथ

Best Gulzar shayari in hindi

kuch log apne dil ka
bohot khayal rakhte hai
agar idhar nhi lagta
to wo udhar laga lete hai

कुछ लोग अपने दिल का
बोहोट ख़याल रखते है
अगर इधर न्ही लगता
तो वो उधर लगा लेते है

 


samajh lena ki mohabat
usi din khatam ho jati hai
jis din koi ye kehta hai
ke tumhare andar ab wo
pehli wali baat nhi

समझ लेना की मोहबत
उसी दिन ख़तम हो जाती है
जिस दिन कोई ये कहता है
के तुम्हारे अंदर अब वो
पहली वाली बात न्ही

 

 

kuch batein tab tak samajh nhi aati
jab tak khud pe na gujre

कुछ बातें तब तक समझ न्ही आती
जब तक खुद पे ना गुज़रे

 


ye jhoot hai ke mohabat
kisi ka dil todti hai
log khud he tut jate hai
mohabat karte karte

ये झूट है की मोहबत
किसी का दिल तोड़ती है
लोग खुद हे टूट जाते है
मोहबत करते करते

 


khusiya takdeer main honi chahiye
tasveer pe to har koi muskurata hai

ख़ुसीया तकदीर मैं होनी चाहिए
तस्वीर पे तो हर कोई मुस्कुराता है

 

Gulzar shayari 


akeli ratein bolti bohot hai
magar sun wahi sakta hai
jo khud bhi akela hota hai

अकेली रातें बोलती बोहोट है
मगर सुन वही सकता है
जो खुद भी अकेला होता है

 

sehne wala he janta hai
ke wo kitna dard main hai
warna duniya ko to bas
jhooti hasi he dikhti hai

सहने वाला हे जानता है
के वो कितना दर्द मैं है
वरना दुनिया को तो बस
झूती हसी ही दिखती है

Gulzar shayari in hindi ke sath ap mere khud ke kuch shayari bhi par ke dekh sakte hai ,wo baat alag hai Gulzar saab ke samne mera jo shayari hai woh kuch nhi par agar parna chaho to ek bar jarur pariyega

quotes in hindi on life | zindagi quotes in hindi


kuch is tarah mujhse
waqt ne soda kiya
tajurbe dekar meri
masumiyat le gaya -Gulzar poetry

कुछ इस तरह मुझसे
वक़्त ने सोडा किया
तजुर्बे देकर मेरी
मासूमियत ले गया -Gulzar poetry

 


sinne main dharakta jo hissa hai
usika to sara ye kissa hai

सिनने मैं धारकता जो हिस्सा है
उसीका तो सारा ये किस्सा है

 

 

kya jaroorat tha dur jane ke
pass rehkar bhi toh
tarpa sakte the -Gulzar saab poetry

क्या ज़रूरत था दूर जाने की
पास रहकर भी तो
तरपा सकते थे -Gulzar saab poetry

 


aaj hamein fursat nhi mila
unse baat karni ke
aur huwa ye ki
woh bhi hamein yaad karna bhool gaye

आज हमें फ़ुर्सत न्ही मिला
उनसे बात करनी की
और हुवा ये की
वो भी हमें याद करना भूल गये

 


mere pass mausam ki
koi jankari nhi
magar itna janta hoon
yaadein tufaan lati hai

मेरे पास मौसम की
कोई जानकारी न्ही
मगर इतना जानता हूँ
यादें तूफान लाती है

 


kisi ke aadat lagne main
waqt nhi lagta
magar aadat ko khatam karne main
jindagi gujar jati hai – gulzar saab

किसी के आदत लगने मैं
वक़्त न्ही लगता
मगर आदत को ख़तम करने मैं
जिंदगी गुजर जाती है – gulzar saab

Gulzar shayari in hindi collection


jab mohabat aur nafrat
ek he insan se ho jai
to samajh lena ki
ab ya bhram tutega
ya tumhara dil

जब मोहबत और नफ़रत
एक ही इंसान से हो जाई
तो समझ लेना की
अब या भ्रम टूटेगा
या तुम्हारा दिल –

 

itni bhi buri na thi ye zindagi sahaab
bas kuch dimag wale log ko
dil main jagah dedi- Gulzar poetry

इतनी भी बुरी ना थी ये ज़िंदगी सहाब
बस कुछ दिमाग़ वाले लोग को
दिल मैं जगह डेडी- Gulzar poetry

 

gulzar sahab ki shayari

mujhe fursat kaha ke
mausam suhana dekhu
teri yadoon se nikalu
tab to jamana dekhu

मुझे फ़ुर्सत कहा की
मौसम सुहाना देखु
तेरी याडून से निकलु
तब तो जमाना देखु

 


jab koi rista tut jata hai na
toh ghou utna he gehra hota hai
jitna ke rista

जब कोई रिस्ता टूट जाता है ना
तो घाव उतना हे गहरा होता है
जितना के रिस्ता


kuch jakhmo ke umra nhi hoti
ta umar sath chalte hai
jism ke khak hone tak

कुछ जख़्मो के उमरा न्ही होती
ता उमर साथ चलते है
जिस्म के खाक होने तक- गुलज़ार शायरी

 

 

jin logo ko kismat ke
baduwa lag jati hai
phir jindagi bhi unhe ki
khusiya se khelti hai – gulzar shayari

जिन लोगो को किस्मत की
बड़ुवा लग जाती है
फिर जिंदगी भी उन्ही की
ख़ुसीया से खेलती है- gulzar shayari

 


wafaye karna to koi hamse sikhe
jisse tutkar chaha
usse khabar tak nhi – gulzar quotes

वाफा करना तो कोई हमसे सीखे
जिससे टूटकर चाहा
उससे खबर तक न्ही – गुलज़ार कोट्स

 


jab main khush hota hoon
woh bhi khush hota hai
main baat aaine ke kar rha hoon
insan ke nhi – gulzar quotes

जब मैं खुश होता हूँ
वो भी खुश होता है
मैं बात आईने के कर रा हूँ
इंसान के न्ही – गुलज़ार कोट्स

 

 

agar jindagi had se jyada rulana lage
toh samajh jana ke jindagi
bahut kuch sikhani wali hai

अगर जिंदगी हद से ज़्यादा रुलाना लगे
तो समझ जाना के जिंदगी
बहुत कुछ सीखनी वाली है

 

 

dimag aur jaban tez chalne se
riste ke raftar dhimi pad jati hai

दिमाग़ और ज़बान तेज़ चलने से
रिस्ते के रफ़्तार धीमी पड़ जाती है

 


waha narajge ka koi matlab nhi
jaha khud batana pare main naraj hoon

वाहा नाराज़गे का कोई मतलब न्ही
जहा खुद बताना परे मैं नाराज़ हूँ

 

 

mila toh bohot kuch hai
is jindagi main
bas ham ginti usiki karte hai
jo hasil na ho saka- gulzar poetry

मिला तो बोहोट कुछ है
इस जिंदगी मैं
बस हम गिनती उसीकि करते है
जो हासिल ना हो सका – gulzar poetry

 

gulzar sad shayari

taklif khud ke kaam ho gayi
jab apno se umeed kam ho gayi

तकलीफ़ खुद की कम हो गयी
जब अपनो से उमीद कम हो गयी

 


aaina dekh ke tasili hui
hamko bhi is ghar main
janta hai koi – gulzar shayari

आईना देख के तसिली हुई
हमको भी इस घर मैं
जनता है कोई – गुलज़ार शायरी

 

rulaya na kar haar baat pe a jindagi
jaruri nhi ke har kisi ke jindagi main
chup karane wal ho

रुलाया ना कर हार बात पे ए जिंदगी
ज़रूरी न्ही के हर किसी के जिंदगी मैं
चुप करने वॉल हो


jisne bura waqt dekha hai
woh kabhi kiska bura nhi kar sakta

जिसने बुरा वक़्त देखा है
वो कभी किसका बुरा न्ही कर सकता

 

Gulzar shayari in hindi and Gulzar quotes


na nafrat hai unse
ya mohabaat bachi hai
na intezar hai unka
na koi sikayat bachi hai

ना नफ़रत है उनसे
या मोहबात बची है
ना इंतेज़ार है उनका
ना कोई सीकायत बची है

 

itni sikayat itni sharte itni pabandi
tum mohabaat kar rahe ho
ya soda koi – gulzar poetry

इतनी सीकायत इतनी शर्ते इतनी पाबंदी
तुम मोहबात कर रहे हो
या सोडा कोई -gulzar poetry

 


kisi se bichadna
agar majburi ban jaye
to samajh lena ke
uski rah ke manjil
koi aur he hai

किसी से बिछड़ना
अगर मजबूरी बन जाए
तो समझ लेना के
उसकी राह की मंज़िल
कोई और ही है

 

muskil hota hai jawab dena
jab koi khamosh reh kar bhi
sawal kar leta hai – Gulzar

मुस्किल होता है जवाब देना
जब कोई खामोश रह कर भी
सवाल कर लेता है – गुलज़ार

 


bohot taklif deti hai na
meri bate tumhe
dekh lena ek din
meri khamoshi tumhe rula degi

बोहोट तकलीफ़ देती है ना
मेरी बाते तुम्हे
देख लेना एक दिन
मेरी खामोशी तुम्हे रुला देगी

gulzar shayari in hindi on life

mohabat to dil dekar ki jati hai
chera dekh kar log sirf soda karte hai

मोहबत तो दिल देकर की जाती है
चेरा देख कर लोग सिर्फ़ सोडा करते है

 


behisab hasrate na paliye
jo mila hai usse sambhaliye

बेहिसाब हसरते ना पलिए
जो मिला है उससे संभालिए

 


bohot ache hote hai
ham jaise bure log bhi
apna siva kisi ka bura nhi sochte

बोहोट आछे होते है
हम जैसे बुरे लोग भी
अपना सिवा किसी का बुरा न्ही सोचते

 


jitna tum sochti ho
usse kahi jyada toota hoon
aur tum sochti ho main jhoota hoon

जितना तुम सोचती हो
उससे कही ज़्यादा टूटा हूँ
और तुम सोचती हो मैं झूता हूँ

 


kaun kehta hai ki
ham jhoot nhi bolte
tum ek bar kheriyat
puch kar to dekho

कौन कहता है की
हम झूट न्ही बोलते
तुम एक बार खेरियत
पूछ कर तो देखो

 


tum khayal rakhna apna
mere pas aaj bhi koi
tum sa nahi – gulzar poetry

तुम ख़याल रखना अपना
मेरे पास आज भी कोई
तुम सा नही – gulzar poetry

 

itna kyu sikhayi jaa rhi hai jindagi
hamein kaunsi sadiya gujarni hai yaha

इतना क्यू सिकाई जा रही है जिंदगी
हमें कौनसी सादिया गुजारनी है यहा

 

 

woh mohabat bhi tumhari thi
nafrat bhi tumhari thi
ham apni wafa ka insaf kisse mangte
woh seher bhi tumhara tha
aur wo adalat bhi tunhari thi

वो मोहबत भी तुम्हारी थी
नफ़रत भी तुम्हारी थी
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किससे माँगते
वो सहेर भी तुम्हारा था
और वो अदालत भी तुनहरी थी

 


saphal risto pe bas yahi asal hai
bate bhuliye jo fijhul hai

सफल रिस्टो पे बस यही असल है
बाते भूलिए जो फिझूल है


kitni lambi khamoshi se gujra hoon
unse kitna kuch kehni ke koshish ki

कितनी लंबी खामोशी से गुजरा हूँ
उनसे कितना कुछ कहनी के कोशिश की

 


kissi par mar jane se
hoti hai mohabbat
ishq jinda logo ke
bas ka nhi – gulzar Sir

क़िस्सी पर मर जाने से
होती है मोहब्बत
इश्क़ जिंदा लोगो के
बस का न्ही – गुलज़ार सर

gulzar quotes on zindagi

Bahut mushkil se karta hoon
teri yaadon ka karobar
munaafa kam hai
lekin guzaara ho jata hai

बहुत मुश्किल से करता हूँ
तेरी यादों का कारोबार
मुनाफ़ा कम है
लेकिन गुज़ारा हो जाता है

 


Tere bina zindagi se koi shikva to nahin
Tere bina zindagi bhi lekin zindagi to nahin

तेरे बिना ज़िंदगी से कोई शिकवा तो नहीं
तेरे बिना ज़िंदगी भी लेकिन ज़िंदगी तो नहीं

 


tumahari khusiya ka thikana bahut hoga
magar hamari bechainiyo ka
wajah bas tum ho – Gulzar saab

तुमाहरी ख़ुसीया का ठिकाना बहुत होगा
मगर हमारी बेचैनियो का
वजह बस तुम हो – गुलज़ार साब

 


Ye ishq mohabbat ki
riwayat bhi ajeeb hai
Paya nahin hai jisko
usse khona bhi nahin chahte

ये इश्क़ मोहब्बत की
रिवायत भी अजीब है
पाया नहीं है जिसको
उससे खोना भी नहीं चाहते

 

tum is duniya ke haqiqat se
anjan ho dost
yaha yaad rehne ke liye
yaad dilana padta hai

तुम इस दुनिया के हक़ीक़त से
अंजन हो दोस्त
यहा याद रहने के लिए
याद दिलाना पड़ता है

Gulzar shayari in hindi aap sabke liye

Us umra se humne tumko chaha hai
Jis umra mein hum
jism se waqif naa the -gulzar quotes

उस उमरा से हमने तुमको चाहा है
जिस उमरा में हम
जिस्म से वाक़िफ़ ना थे – गुलज़ार कोट्स

 


Naa Dur Rehne Se riste Tut Jate hain
Naa Paas Rahane Se Jur Jate hain
Yah To ehsash Ke pakke dhage hain
Jo Yaad Karane Se Aur Majbut Ho jate hain

ना दूर रहने से रिस्ते टूट जाते हैं
ना पास रहने से जुड़ जाते हैं
ये तो एहसश के पक्के धागे हैं
जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं


hamne aksar tumhari rahoon main
ruk kar apna he intezar kiya hai

हमने अक्सर तुम्हारी राहों मैं
रुक कर अपना ही इंतेज़ार किया है

 

Rishton ki ahmiyat samjha karo janab
Inhe jataya nahin nibhaya jaata hai

रिश्तों की अहमियत समझा करो जनाब
इन्हे जताया नहीं निभाया जाता है

 

aap ke baad har ghari hamne
aapke sath he gujari hai

आप के बाद हर घरी हमने
आपके साथ ही गुज़ारी है

gulzar quotes in hindi


bohot andar tak jala deti hai
wo sikayat jo baya nhi hoti

बोहोट अंदर तक जला देती है
वो सीकायत जो बया न्ही होती

 


Kabhi Zindagi Ek Pal Me Guzar Jati Hain
Aur Kabhi Zindagi Ka Ek Pal Nahi Guzarata

कभी ज़िंदगी एक पल मे गुज़र जाती हैं
और कभी ज़िंदगी का एक पल नही गुज़रता

 

Gham Maut Ka Nahi Hain
Gham Ye hai Ke Akhiri Waqt Bhi
Tu Mere Ghar Nahi Hain

घम मौत का नही हैं
घम ये है की आख़िरी वक़्त भी
तू मेरे घर नही हैं

 

dil agar hai to dard bhi hoga
iska sayad koi haal nhi hai

दिल अगर है तो दर्द भी होगा
इसका सायड कोई हल न्ही है

 

woh chiz jisse dil kehte hai
ham bhool gaye hai
rakh ke kahi – Gulzar poetry

वो चीज़ जिससे दिल कहते है
हम भूल गये है
रख के कही – Gulzar poetry

 

apne he saye se chauk jate hai
umra gujari hai is kadar tanha

अपने ही साये से चौक जाते है
उमरा गुज़री है इस कदर तन्हा

 

 

Maine maut ko to dekha nhi
par sayad wo khubsurat hogi
kambakt jo bhi usse milta hai
jeena chod deta hai – gulzar shayari

मैने मौत को तो देखा न्ही
पर सयद वो खूबसूरत होगी
कम्बक्ट जो भी उससे मिलता है
जीना छोड़ देता है – गुलज़ार शायरी

 

shayar banna bohot aasan hai
Bas ek adhuri mohabbat ke
mukammal degree chahiye

शायर बनना बोहोट आसान है
बस एक अधूरी मोहब्बत की
मुकम्मल डिग्री चाहिए

 


Ghar Me Apano Se utana Hi Rutho
Ki Aapki Baat Aur Dusaro Ki Izzat
Dono Barkaraar Rahe – gulzar saab

घर मे अपनो से उतना ही रूठो
की आपकी बात और दूसरो की इज़्ज़त
दोनो बरकरार रहे – गुलज़ार साब

Gulzar shayari in hindi on life


behtar dino ke
aas main jite huwe
ham behtarin din bhi
gawate chale jate hai

बेहतर दीनो के
आस मैं जीते हुवे
हम बेहतरीन दिन भी
ग्वाते चले जाते है

 


seher main majdur jaisa
dar badar koi nhi
jisne sabka ghar banaya
uska apna koi ghar nhi – gulzar poetry

सहेर मैं मजदूर जैसा
दर बदर कोई न्ही
जिसने सबका घर बनाया
उसका अपना कोई घर न्ही – gulzar poetry

 


bartan khali ho to ye mat samjhna
ke mangne chala hai
ho sakta hai sab kuch
baat ke aaya ho

बर्तन खाली हो तो ये मत समझना
के माँगने चला है
हो सकता है सब कुछ
बात के आया हो

 

 

Kabhi to chaunk ke dekhe koi hamari taraf
ksisi ki ankhon main hamko bhi to intezaar dikhe

कभी तो चौक के देखे कोई हमारी तरफ़
किसी की आँखों में हमको भी को इंतजार दिखे
.


din kuch aese gujarta hai koi
jaise aesaan utarta hai koi

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

 


ham to ab yaad bhi nhi karte
apko hichki lag gayi kaise

हम तो अब याद भी नहीं करते
आप को हिचकी लग गई कैसे

 


suna hai kafi par likh gaye ho tum
kabhi wo bhi paro jo ham keh nhi pate hai

सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो तुम
कभी वो भी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते हैं

 


main Diyaa hoon ! meri dushmani to sirf andhero se hai.
hawa to bewajah mere khilaaf hai

मैं दिया हूँ ! मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं

 

conclusion

waise to Gulzar saab ka likha huwa har ek poetry aur shayari bohot khubsurat hai par unmaise jo bhi aaj maine likha hai ye mere favourite poetry and shayari hai Gulzar ji ka. to app sab ko mera jo ye collection hai Gulzar shayari in hindi kaisa laga jarur bateyega comment karke .
Thanks you so much for reading and have a great time

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *