nafrat shayari in hindi | nafrat shayari

nafrat shayari

pyar to har koi karta hai jindagi main par jab koi hamein dhoka deta hai usi shaks ko nafrat karna asan nhi hota , par pyar karke bhi kya faida jo hamein dhoka de isliye aaj main is post pe naftar shayari likh rha hoon ap sako sayad acha lage parke . nafrat shayari in hindi .

har kissa ka baduwa leke
tu khudke liye kaise
jannat ka rasta banaigi

हर किस्सा का बड़ुवा लेके
तू खुदके लिए कैसे
जन्नत का रास्ता बनाईगी

 

Nafrat ham tumse nhi
khud se karte hai
Sab kuch jaan ke bhi
Tujhe jo pyar karte hai

नफ़रत हम तुमसे न्ही
खुद से करते है
सब कुछ जान के भी
तुझे जो प्यार करते है

 

Har koi pyar main pyar nhi karta
Koi pyar ke naam pe
vyapar bhi hai karta

हर कोई प्यार मैं प्यार न्ही करता
कोई प्यार के नाम पे
व्यापार भी है करता

 

Dekh lena tum bhi ek din
khudse nafrat karne logoge
Jab bhi tum mujhe yaad karoge

नफ़रत हम तुमसे न्ही
खुद से करते है
सब कुछ जान के भी
तुझे जो प्यार करते है

 


Ab to ham us gali main
palat kar tak nhi dekhte
Jis gali main tera zikar hota hai

अब तो हम उस गली मैं
पलट कर तक न्ही देखते
जिस गली मैं तेरा ज़िक्र होता है

sad nafarat shayari 


Dhoka dena tha tera fitrat
Isliye ab to mujhe bhi
Tujhse ho gayi hai nafrat

धोका देना था तेरा फ़ितरत
इसलिए अब तो मुझे भी
तुझसे हो गयी है नफ़रत

 


Pyar main aesa kati hai Wo bewafa
Samajh nhi aata ladki hai ya kasai

प्यार मैं एसा काटी है वो बेवफा
समझ न्ही आता लड़की है या कसाई

 

Agar kisiko itni sidhat se
pyar karne ke baat bhi
agar chodke woh chali jaye
To kabhi bhi us insan ko
Yaad mat karna dil se

अगर किसिको इतनी सीधत से
प्यार करने के बात भी
अगर छोड़के वो चली जाए
तो कभी भी उस इंसान को
याद मत करना दिल से

 

Tut kar bhi chaha tha usse
Khokar bhi manga tha usse
Par us bewafa ko meri kadar kaha
Kehti hai bhuladiya usne mujhe

टूट कर भी चाहा था उससे
खोकर भी माँगा था उससे
पर उस बेवफा को मेरी कदर कहा
कहती है भुला दिया उसने मुझे

 


kis chiz ka itna guroor hoga
kismat ka ya phir tera husna ka
par yaad rakhna ye baat
tu bhi ek din tabah jaroor hoga

किस चीज़ का इतना गुरूर होगा
किस्मत का या फिर तेरा हुसना का
पर याद रखना ये बात
तू भी एक दिन तबाह ज़रूर होगा

 

tumse to dushman ache hai
jo kabhi dhoka nhi deta
apni dushmani nibhane main

तुमसे तो दुश्मन आचे है
जो कभी धोका न्ही देता
अपनी दुश्मनी निभाने मैं

nafrat shayari in hindi ke sath ye bhi parke dekhiye


maine tumse sacha pyar kiya hai
najane is mantra se usne
kitno ka barbaad kiya hoga


मैने तुमसे सॅचा प्यार किया है
नज़ाने इस मंतरा से उसने
कितनो का बर्बाद किया होगा

nafrat image shayari in hindi


nafrat karti mujhse
phir bhi intezar kiya
agar pyar karti to socho
satto janam uske naam kar dete

नफ़रत करती है मुझसे
फिर भी इंतेज़ार किया
अगर प्यार करती तो सोचो
सात्तो जानम उसके नाम कर देते

 

kisi ko bewafa mat kaho
kya pata usse tumse jyada
pyar karna wala mil gaya ho

किसी को बेवफा मत कहो
क्या पता उससे तुमसे ज़्यादा
प्यार करना वाला मिल गया हो

 

jitna hamne ansoon bahaya hoga
utna tumhe bhi ek din
sudh sameth hisab chukta karna hoga

जितना हमने आनसून बहाया होगा
उतना तुम्हे भी एक दिन
सुध समेत हिसाब चुकता करना होगा

nafrat shayari for whatsapp


khone ke baad afsosh karke kya faida
jab sath the to kabhi kadar he na ki

खोने के बाद अफ़सोश करके क्या फ़ायदा
जब साथ थे तो कभी कदर ही ना की

nafrat shayari on love 


kya diniya mai log isliye pyar karte hai
taki jindagi bhar us shaks se nafrat kar sake

क्या दिनिया मै लोग इसलिए प्यार करते है
ताकि जिंदगी भर उस शक्स से नफ़रत कर सके

 


agar sache dil se
pyar nhi kar sakti
to nafrat kar lena
par jo bhi karna
puri sidhat se karna

अगर सचे दिल से
प्यार न्ही कर सकती
तो नफ़रत कर लेना
पर जो भी करना
पूरी सीधत से करना

 

nafrat karu to bhi kaise karu
ab to hamain ye bhi samajh nhi aata
tere bina main jeeyu ya maru

नफ़रत करू तो भी कैसे करू
अब तो हमे ये भी समझ न्ही आता
तेरे बिना मैं जीयू या मारू

 

mujhe pyar karne ka
tere pass koi wajah nhi tha
aur tujhe nafrat karne ka
mere pass koi wajah nhi tha

मुझे प्यार करने का
तेरे पास कोई वजह न्ही था
और तुझे नफ़रत करने का
मेरे पास कोई वजह न्ही था

 

narat pane ke liye bhi yaro
pehele pyar pana parta hai

नरत पाने के लिए भी यारो
पहेले प्यार पाना परता है

 

agar pata hota tu itna tarpata
to kabhi bhi tere kareeb na ata

अगर पता होता तू इतना तरपाता
तो कभी भी तेरे करीब ना आता

 

pata nhi kab aur kaise
i love you
i hate you
main badal jata hai


पता न्ही कब और कैसे
i love you
i hate you
मैं बदल जाता है

 


pyar main to dhoka de diya
nafrat to imandari se karna

प्यार मैं तो धोका दे दिया
नफ़रत तो ईमानदारी से करना

nafrat status 

kuch riste pe dono he bewafa nhi hota
sala kismat he khel khel jati hai

कुछ रिस्ते पे दोनो ही बेवफा न्ही होता
साला किस्मत हे खेल खेल जाती है

 

nafrat tumse karu ya kismat se
dono he ek jaise hai
bas khelte hai mere dilse

नफ़रत तुमसे करू या किस्मत से
दोनो हे एक जैसे है
बस खेलते है मेरे दिलसे


agar pyar hota
toh waise bhi sath thodi marta

अगर प्यार होता
तो वैसे भी साथ थोड़ी मरता

 

bure chiz ka koi example nhi hota
isliye to sirf pyar ka dastan hai
kisi bewafa ke kahani nhi

बुरे चीज़ का कोई example न्ही होता
इसलिए तो सिर्फ़ प्यार का दास्तान है
किसी बेवफा की कहानी न्ही

 


nafrat karti hai woh mujhse
par phir bhi ye dil
roj yaad karta hai tujhe

नफ़रत करती है वो मुझसे
पर फिर भी ये दिल
रोज याद करता है तुझे

 

 

mera galti kya tha
jo aaj nafrat karne lagi ho
main to wahi tha
jisko pehele din se tune
pyar kiya tha

मेरा ग़लती क्या था
जो आज नफ़रत करने लगी हो
मैं तो वही था
जिसको पहेले दिन से तूने
प्यार किया था

 

Tujhe pyar bhi tere aukat se barkar kiya
Rahi baat nafrat ke, ab to hamne
Tere naam ko bhi dil se mita diya

तुझे प्यार भी तेरे औकात से बर्कर किया
रही बात नफ़रत की, अब तो हमने
तेरे नाम को भी दिल से मिटा दिया


Dikhawa acha karti thi
Woh pyar ka
Ab bas tu intezar kar
Nafrat pane ke liye
tere yaar ka


दिखावा अछा करती थी
वो प्यार का
अब बस तू इंतेज़ार कर
नफ़रत पाने के लिए
तेरे यार का

 

kabhi fursat mile to batana
Kya galti thi hamari
Par jo jhoota pyar hai tumhara
Ye ham par kabhi mat jatana

कभी फ़ुर्सत मिले तो बताना
क्या ग़लती थी हमारी
पर जो झूता प्यार है तुम्हारा
ये हम पर कभी मत जताना

 

Tumhe apna to bana na saka
Pyar na sahi , nafrat to
Jindagi bhar karna

तुम्हे अपना तो बना ना सका
प्यार ना सही , नफ़रत तो
जिंदगी भर करना

nafrat status in hindi


Mohabbat bhi badalta hai
mausam ke tarah
Kal pyar tha mujhse
ab nafrat karne lagi hai
gairo ke tarah

मोहब्बत भी बदलता है
मौसम के तरह
कल प्यार था मुझसे
अब नफ़रत करने लगी है
गैरो के तरह

 


Ab to mohabbat ke naam se he
nafrat ho gayi hai
Yaad jisse ham har roj karte hai
Wahi hamein aaj bhul gayi hai

अब तो मोहब्बत के नाम से ही
नफ़रत हो गयी है
याद जिससे हम हर रोज करते है
वही हमें आज भूल गयी है

 


Tere pyar main aesa tohfa mila hamein
Khusi ke badle dard mila
Pyar ke badle nafrat mila hamein

तेरे प्यार मैं एसा तोहफा मिला हमें
ख़ुसी के बदले दर्द मिला
प्यार के बदले नफ़रत मिला हमें

 

Is kadar tut ke pyar kiya hai tujhe
agar phir bhi pyar nhi kar sakti
To sina thok kar nafrat karna mujhe

इस कदर टूट के प्यार किया है तुझे
अगर फिर भी प्यार न्ही कर सकती
तो सीना थोक कर नफ़रत करना मुझे

 

Agar nafrat karti ho mujhse
To hamein barbaad kyu nhi hone deti

अगर नफ़रत करती हो मुझसे
तो हमें बर्बाद क्यू न्ही होने देती

 

conclusion

kaise laga ap sabko mera nafrat shayari comment karke jarur batayega. par har koi jindagi main bura nhi hota ,ache insan bhi is duniya pe bohot sare hai aur isliye sahi insan ko kabhi nafrat mat karna . halat ka wajahse bhi kabhi kabhi kisi ko alag hona parta hai .

so take care and thank you

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *